समाचार फ्लैश

वस्तु एवं सेवा कर के बारे में

भारत में अप्रत्यक्ष कर सुधारों के क्षेत्र में वस्तुा एवं सेवाकर (GST) की शुरुआत एक बहुत ही महत्वपूर्ण कदम होगा। केंद्र और राज्य करों की एक बड़ी संख्या को एक कर में समाहित करके, यह एक प्रमुख तरीके से व्या पक या दोहरे कराधान को कम करेगा और एक सामान्य राष्ट्रीय बाजार के लिए मार्ग प्रशस्त करेगा। उपभोक्ता के दृष्टिकोण से देखा जाए तो सबसे बड़ा लाभ यह होगा कि माल पर कुल कर बोझ जो वर्तमान में लगभग 25% -30% होने का अनुमान है में कमी आएगी । जीएसटी लागू होने से यह भारतीय उत्पादों को घरेलू और अंतरराष्ट्रीय बाजारों में भी प्रतिस्पर्धी बनाएगा । अध्ययनों से पता चलता है कि इससे आर्थिक वृद्धि पर प्रभाव पड़ेगा। अंतिम लेकिन कम महत्व पूर्ण नहीं है कि - यह कर अपने पारदर्शी और स्वर-नीति-निर्धारण चरित्र के कारण प्रबंध करने में सुविधाजनक होगा ।
  • IS 15700:2005

    "भारतीय मानक ब्यूरो, नई दिल्ली द्वारा आंध्र प्रदेश में पहली बार सेवा गुणवत्ता प्रबंधन प्रणाली के लिए लाइसेंस"